Latest News

Untitled

Share this:     कहै ‘कवि बेनी, बेनी ब्याल की चुराइ लीनी।रती-रती शोभा सब रति के शरीर की।अब तौ कन्हैया जू को...

पोल-खोलक यंत्र (Pol Kholak Yantra)

Share this:     ठोकर खाकर हमनेजैसे ही यंत्र को उठाया,मस्तक में शूं-शूं की ध्वनि हुईकुछ घरघराया।झटके से गरदन घुमाई,पत्नी को देखाअब...

Rahim Ke Dohe

Share this:     http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%A3%E0%A5%80:%E0%A4%A6%E0%A5%8B%E0%A4%B9%E0%A5%87